ख्वाइस तो यही है कि तेरे बाँहों में पनाह मिल जाये |
शमा खामोस हो जाये और शाम ढल जाये ||
प्यार इतना करे कि इतिहास बन जाये |
और तुम्हारी बाँहों से हटने से पहले शाम हो जाये ||
ख्वाइस तो यही है कि तेरे बाँहों में पनाह मिल जाये | शमा खामोस हो जाये और शाम ढल जाये || प्यार इतना करे कि इतिहास बन जाये | और तुम्हारी बाँहों से हटने से पहले शाम हो जाये ||
1
0 Comments 0 Shares