हमारी किसी बात से खफा मत होना,
नादानी से हमारी नाराज़ मत होना.
पहली बार चाहा है हमने किसी को इतना,
चाह कर भी कभी हमसे दूर मत होना..
हमारी किसी बात से खफा मत होना, नादानी से हमारी नाराज़ मत होना. पहली बार चाहा है हमने किसी को इतना, चाह कर भी कभी हमसे दूर मत होना..
1
0 Comments 0 Shares