तेरा इश्क़ ही है मेरी बंदगी, मुझे और कुछ तो खबर नहीं,
तुझे देख कर देखूँ और कहीं, अब मेरे पास वो नज़र नहीं।
तेरा इश्क़ ही है मेरी बंदगी, मुझे और कुछ तो खबर नहीं, तुझे देख कर देखूँ और कहीं, अब मेरे पास वो नज़र नहीं।
7
0 Comments 0 Shares