अगर किसी शौहर की बीवी अपने ससुराल वालों की बातों से नाराज होकर अपने मायके जा बैठी हो। या फिर अपने ससुराल के लोगों के साथ-साथ शौहर को बिना वजह परेशान करती हो तो इस सूरत में रोजाना 260 बार 44 दिनों तक एक वजीफा पढ़े। उसके लिए किया रोजाना रात को 11 बजे के बाद किया जाने वाला उपाय इस तरह करना होगा-

घर के किसी एकांत कमरे में एक किनारे साफ चादर बिछा लें। वजु कर उसपर बैठ जाएं और प्रतिदिन का नमाज पढ़ें।

See More : https://www.kalailm.in/भागे-हुए-को-वापस-बुलाने-का/
अगर किसी शौहर की बीवी अपने ससुराल वालों की बातों से नाराज होकर अपने मायके जा बैठी हो। या फिर अपने ससुराल के लोगों के साथ-साथ शौहर को बिना वजह परेशान करती हो तो इस सूरत में रोजाना 260 बार 44 दिनों तक एक वजीफा पढ़े। उसके लिए किया रोजाना रात को 11 बजे के बाद किया जाने वाला उपाय इस तरह करना होगा- घर के किसी एकांत कमरे में एक किनारे साफ चादर बिछा लें। वजु कर उसपर बैठ जाएं और प्रतिदिन का नमाज पढ़ें। See More : https://www.kalailm.in/भागे-हुए-को-वापस-बुलाने-का/
0 Comments 0 Shares